Thursday, June 14, 2012

कबीरा भाया सयाना !


कबीरा भाया सयाना मांगे गली गली उधार ,
बनिये उससे चातरे ना खोले कोई द्वार !
अगस्त्य