Tuesday, February 5, 2013

Yes it is Time to Melt !


हां हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए ,

इस हिमालय से फिर कोई गंगा निकलनी चाहिए ,

उनका तो मकसद सिर्फ हंगामा खड़ा करना ही है ,

शीर्ष पर बैठें हैं जो – उनकी भी तबियत बिगडनी चाहिए ,

अन्न के दानो का रोना रोते हैं जो लोग ,

खुदकुशी करने को बस ज़रा सी हिम्मत तो चाहिए ,

या तो फिर कुछ ऐसा करें की विस्फोट सा हो जाए ,

इस राजनीति से ये अंग्रेजियत निकलनी चाहिए ,

जितने का तोप गोले – बारूद खरीदा करतें हैं हम ,

अब बस करें तो सब की छप्पनभोग थाली लगनी चाहिए ,

और धार्मिकों को चाहिए की वो बस घंटी घून्घूनायें ,

राजनीति में हस्तछेप की हिमाकत नहीं करनी चाहिए ,

देश के सब बूध्हिजिवियों को डूब मरना चाहिए ,

सोचता हूँ की क्या सच में आतंकियों से नफरत करनी चाहिए ,

सब्र के जब बाँध सब टूटेंगे गर इसी तरह ,

भीड़ तो जमा होगी ही – बेशक लाठियां पड़नी चाहियें ,

देश का हर नागरिक आतंकवादी कहलायेगा इक दिन ,

या तो खादी वालों के पजामे की गाँठ ढीली पड़नी चाहिए ,

कुछ आदिवासी मिले – कह रहे थे मुस्कुराकर खुशी से ,

चाहे घास की बने पर रोटी – गोल बननी चाहिये !

अगस्त्य नारायण शुक्ल

05/02/2013